खोज:akhil bhartiya sahitya parishad

बुधवार, 25 फ़रवरी 2009

साहित्य परिक्रमा के सदस्य बनें

साहित्य परिषद् की त्रिमासिक पत्रिका साहित्य परिक्रमा के सदस्य बनकर परिषद् से जुडें। पत्रिका का आजीवन शुल्क ५०० रूपये और दो साल का १०० रुपये है । शुल्क भेजने का पता है - राष्ट्र उत्थान भवन, माधव महाविद्यालय के सामने, नई सड़क, ग्वालियर ४७४००१ मध्य प्रदेश ।

3 टिप्‍पणियां:

  1. ब्‍लाग में विज्ञापन देकर श्रेष्‍ठ कार्य किया है। शुभकामनाएं प्रेषित हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. साहित्य परिक्रमा मे प्रकाशनार्थ असमीया से हिन्दी मे अनुदित कहानियां व आलेख भेजना चाहता हूं ताकि असमीया साहित्य से हिन्दी साहित्य जगत परीचित हो सके। क्या ऐसा प्रावधान है ?

    नागेन्द्र शर्मा

    उत्तर देंहटाएं